जितनी चादर उतने ही पैर पसारे

पुराने लोग जो भी कहते थे वो उनके तजुर्बे के साथ सही बोला करते थे “जितनी चादर उतना ही पैर पसारे” सही तो है हमें उतना ही बड़ा काम करना चाहिए जितनी हमारे अंदर क्षमता हो हमें कभी अपनी क्षमता के भर होकर काम नहीं चाहिए क्यूंकि हम जितना कर सकते है वो हम करते है।

कभी भी किसी को अपने करीबियों से इतनी बड़ी ख्वाईश नहीं करना चाहिए जिससे की उनको तकलीफ या परेशानी होने लगे। हमें अपनी क्षमता अनुसार ही काम करना चाहिए अगर हम सक्षम नहीं है तो सक्षम बनने के लिए आप कड़ी मेहनत कीजिये। आप जरूर बहुत कुछ हासिल कर ही लेंगे।

जितनी चादर उतने ही पैर पसारे –

आपका लाइफ पार्टनर बहुत अच्छा या एक परफेक्ट पति हो, फिर भी आपका एक अच्छी पत्नी होना उतना ही मायने रखता है। अच्छे रिश्ते के लिए दोनों का सामंजस्य होना बहुत जरुरी है। आप अपने पति के साथ कदम से कदम मिला के चलिए। आप अपने पति को आप दोनों के भविष्य के लिए सुनहरे सपने दिखाए और हमेशा उनको सकारात्मक सोच की रह दिखाते हुए आगे बढ़ने का होंसला दीजिये।
इसके उल्ट कुछ पत्नियां ऐसी भी होती है जो अपने पति से कुछ भी मांग करती रहती है आपके पति की नौकरी अभी छोटी है उसकी आय बढ़ने में कुछ समय बाकी है तो आप इस अनुसार उनसे कुछ भी मांग करे। आपके पति की क्षमता अभी दो पहिया वाहन लेकर आने की है और आप उनसे चार पहिया वाहन मांग करती है आप उनसे रोज कलह करती उनको रोज परेशान करती है तो यह बात आपके पति को हर तरह से परेशान करेगी। इसीलिए आप अपने पति से जो मांगे सोच समझ कर ही बोले आपकी अभी जितनी चादर है आप उतना ही पैर पसारे यह आप दोनों के रिश्ते के लिए अच्छा रहेगा ।

हकीकत यही है कि हमें हमेशा सपने अपने आय के अनुसार देखने चाहिए। और निरंतर उन सपनो को पाने के लिए कड़ी मेहनत करे। दुनिया में मुश्किल कुछ नहीं होता है मगर उस चीज को पाने के लिए आप खूब मेहनत करेंगे तो आप उसे एक न एक दिन पा ही लेंगे। सपने हमेशा देखिये और उनको पूरा करने की भी पूरी कोशिश करिये। आप कभी दूसरे के खुशहाल जीवन को देखके जलिये मत बल्कि आप उनकी उस मेहनत को गौर कीजिये जो उन्होंने इस खुशहाल जीवन बनाने के लिए की है। हमेशा लोगो से सकारात्मक चीजे सीखे और उन चीजों को आप भी पा ले उसके लिए कड़ी मेहनत कीजिये। क्या पता कब आप दुसरो के लिए एक आइडियल व्यक्ति बन जाए ??

प्रातिक्रिया दे