सगाई

सगाई के बाद और शादी के पहले का समय। क्यों होता है बहुत ख़ास ???

शादी से पहले जो एक रस्म होती है उसे हम सगाई कहते है। सगाई एक ऐसा पल है जिसमे हम एक दूसरे के आधे आधे बन जाते है। कई बार सगाई बहुत लम्बे समय तक भी रहती है और कई बार बहुत कम समय की रहते हुए शादी की तारीख निकल जाती है।

सगाई में दोनों परिवार वाले उपस्थित रहते है और ये रस्म लड़का – लड़की एक दूसरे को अंगूठी पहना के अदा करते है। सगाई में जिसके जैसे भी रस्मो रिवाज़ है वो उसी तरह पुरे करते है और इसी बिच शादी की तारीख भी अक्सर तय हो जाती है। और यह सब देखते हुए लड़का लड़की बहुत ही खुश होते है और यही से चलता है इनके प्यार का सिलसिला।

पहले के समय में माहौल बिलकुल अलग हुआ करता था। लड़की से बात तो दूर उनकी शक्ल ही शादी के बाद देखने को मिलती थी मगर अब समय बदल रहा है और लोगो के विचार भी।

मै भी शादी से बहुत डरती थी माँ पापा को खोने से डर लगता था सोचती थी की शादी जो हो गई तो में पराई हो जाउंगी। मम्मी पापा मुझे फिर उतना प्यार नहीं करेंगे जितना अभी करते है। और जो मेरा जीवनसाथी होगा क्या वो मुझे समझेगा, मेरी ख्वाइशे पूरी करेगा , क्या वो मुझसे बहुत प्यार कर पाएगा जितना माँ पापा करते है।

यही सब सोच सोच के में माँ पापा को बोलती थी की नहीं करो, मेरी शादी नहीं जाना है, मुझे आपसे दूर। मगर वो भी क्या कर सकते है उनको भी समाज में रहना है शादी की वो नहीं सोचेंगे तो लोग आ आ कर माँ पापा को बोलेंगे आप तो जानते ही हो न इस दुनिया में रहने वाले लोगो की आदत कभी अपने घर में नहीं झाकते मगर पड़ोसियों रिश्तेदारों में बड़ी ही दिलचस्पी लेते है। खेर मै भी यह जानती तो थी की शादी तो करना ही है  एक न एक दिन। क्यों न अच्छे मन और दिल से ही की जाए। तो अब में तैयार थी शादी और सगाई जैसे अच्छे पलो को जीने के लिए।

मेरे लिए रिश्ता मेरे पति के नानाजी लेके आए थे खेर वो हमारे ही शहर में रहते थे तो हम उनको थोड़ा बहुत जानते थे। और ऐसे बात चली और मेरे पति की फैमिली आई और मुझसे मेरे परिवार से मिले और हमारे बीच बाते हुई और इनको मै और मुझे ये पसंद आ गए।

फिर कुछ ही दिनों में हमारी सगाई  हुई। और जैसा की मेने बताया था की सगाई क वक़्त ही शादी की तारीख़ निकल जाती है तो वैसे ही हमारे साथ भी हुआ हमको शादी के लिए बहुत ही कम वक़्त मिला 6 महीने से भी कम।मै बहुत खुश थी और मन ही मन दुखी भी क्यूंकि बस 6 महीने और ही में अपने माँ पापा के साथ रहने वाली थी उसके बाद में उनसे हमेशा क लिए दूर जाने वाली थी।

जैसे ही सगाई हुई उसके बाद हमारे फ़ोन पर बाते करने का सिलसिला चलने लगा। हमारा अधिकतर समय फ़ोन पर बीतने लगा। सुबह मै इनको कॉल करके उठाती थी और जैसे ही यह उठते और मुझसे बातो में लग जाते थे कोई फ़िक्र ही नहीं रहती की ऑफिस का समय हो गया है फिर ये दौड़ भाग के ऑफिस को जाते और मै भी अपने काम मे लग जाती थी। और फिर दिन को फ़ोन पर बात करते खाना खाया की नहीं एक दूसरे से पूछते और ऐसे दिन भर में न जाने कितनी बार बात होती रहती थी घर वाले भी हमसे परेशां होते थे बोलते थे थोड़ा सुकून तो फ़ोन को भी दे दो वो भी थक गया होगा। मुझे बहुत हसी आती थी, की कोई किसी के जिंदगी में आने से कितना बदल सकता है मै भी अपने आप में बदलाव महसूस करने लगी थी।

जिम्मेदार होना सिख रह थी, हर काम को व्यवस्थित रूप से करना सिख रह थी। बहुत कुछ सीखना चाहती थी की कभी उनको और मुझे किसी भी बात से परेशानी न हो। और यह सब अपने आप से ही होता है। इतना बदला हुआ कभी अपने आपको महसूस नहीं किया था फिर शादी की तारीख नजदीक आते आते हम शॉपिंग में व्यस्त होने लगे फिर भी हम थक  के भी बाते करना नहीं छोड़ते थे। क्यूंकि ये जो पल है इन्हे हम खोना नहीं चाहते है। इसीलिए एक भी मौका हम ऐसा नहीं रहने देते थे की हम बात न करे या एक दूसरे को वक़्त न दे।

सगाई के बाद और शादी के पहले का समय। क्यों होता है बहुत ख़ास ???

ये जो समय होता है इसे आपको भी जी भर के जीना चाहिए। कहते है न जो वक़्त बीत जाए फिर वो दोबारा नहीं आता है और वो ही ये पल है जिसे हमें बिलकुल भी नहीं गवाना चाइये। इस वक़्त जो लड़का- लड़की में बॉन्डिंग बनती है वो सदा सदा के लिए रहती है। इसी बीच वो एक दूसरे की परवाह करना सीखते है, वो एक दूसरे को कभी किसी बात का बुरा न लगे ये चाहते है।

सगाई के बाद आप एक दूसरे को वक़्त दे और खूब बाते करे।  अभी रिश्ते के जो पल है वो बहुत ही नाजुक है और आप इसे इतना मजबूत बना दे की कभी ये न टूटे। एक दूसरे की पसंद- नापसंद का ख्याल रखे एक दूसरे का सम्मान करे। और जो वादे आप अपने जीवनसाथी से अभी करते है वो उन्हें ही सोच के शादी करता है तो कोशिश करे की आप उसे जरूर निभाने की कोशिश करे।

इस रिश्ते में लड़की का दिल जो होता है बहुत ही ज्यादा नाजुक होता है वो आपकी हर बात मानती है और आप उसे जो भी बोलते है वो उसे पत्थर की लकीर समझ के आपके साथ ख़ुशी ख़ुशी शादी करती है, तो कोशिश करे जो भी आप उससे कहे उसे पूरा करे। ताकि शादी के बाद कभी न तो आपको न ही उसको कभी कोई भी तकलीफ हो और बाकि का जीवन आप अपने जीवन साथी के साथ बहुत ही रोमांच से बिताए।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी हमे कमेंट करके जरूर बताये।

Click here to read about Happy Couples and Their Secrets

2 Comments

  • Pooja kumawat जून 29, 2017 Reply

    Beautifully explained…

    • Priya Soni जून 30, 2017 Reply

      Thank you for the appreciation 🙂

प्रातिक्रिया दे